व्योममित्र: महिला रोबोट अंतरिक्ष यात्री उड़ान भरने की तैयारी करती है

महिला रोबोट अंतरिक्ष यात्री “व्योममित्रा” इस वर्ष की तीसरी तिमाही में इसरो के “गगनयान” मिशन से पहले अंतरिक्ष में उड़ान भरेगी।

व्योममित्र, जिसका नाम “अंतरिक्ष मित्र” रखा गया है, केवल एक रोबोट नहीं है; वह मानव अंतरिक्ष उड़ान के लिए भारत की सीढ़ी है। यह महिला रोबोट अंतरिक्ष यात्री 2024 में अकेले उड़ान भरेगी, “गगनयान” मिशन के लिए तकनीक का परीक्षण करेगी, जो 2025 में भारत की पहली मानव अंतरिक्ष उड़ान होगी।

व्योममित्र का मिशन:

  • मॉनिटर और अलर्ट: वह अंतरिक्ष यान के वातावरण पर नजर रखेगी और किसी भी समस्या के बारे में वैज्ञानिकों को सचेत करेगी।
  • बुनियादी कार्य: पैनल का संचालन करना और सरल प्रश्नों का उत्तर देना मानव-रोबोट सहयोग क्षमता को प्रदर्शित करता है।
  • मार्ग प्रशस्त करना: जीवन समर्थन, संचार और अंतरिक्ष यान का परीक्षण करके, व्योममित्र भविष्य के अंतरिक्ष यात्रियों के लिए एक सुगम यात्रा सुनिश्चित करता है।

महत्व:

  • परीक्षण स्थल: मनुष्यों के उड़ान भरने से पहले महत्वपूर्ण डेटा एकत्र करता है, जिससे उनकी सुरक्षा और मिशन की सफलता सुनिश्चित होती है।
  • तकनीकी सत्यापन: मानव अंतरिक्ष उड़ान के लिए महत्वपूर्ण प्रौद्योगिकियों को मान्य करता है, प्रगति का मार्ग प्रशस्त करता है।
  • सभी के लिए प्रेरणा: यह मिशन युवा मन में विज्ञान, प्रौद्योगिकी और अंतरिक्ष अन्वेषण के प्रति जुनून जगाता है।

प्रश्न: उस महिला रोबोट अंतरिक्ष यात्री का नाम क्या है जो इसरो के “गगनयान” मिशन से पहले अंतरिक्ष में उड़ान भरेगी?

a) व्योमनॉट
b) गगनयात्री
c) व्योममित्र
d) एस्ट्रोनॉटिला

उत्तर : c) व्योममित्र

प्रश्न: भविष्य के अंतरिक्ष यात्रियों के लिए एक सुचारु यात्रा सुनिश्चित करने के लिए व्योममित्र कौन से विशिष्ट कार्य करेगा?

a)पैनलों का संचालन करना और सरल प्रश्नों का उत्तर देना
b) जीवन समर्थन और संचार प्रणालियों का परीक्षण
c) अंतरिक्ष यान का संचालन
d) वैज्ञानिक प्रयोगों का संचालन करना

उत्तर : b) जीवन समर्थन और संचार प्रणालियों का परीक्षण

Scroll to Top