WIPO ने बौद्धिक संपदा (IP), आनुवंशिक संसाधनों और संबंधित पारंपरिक ज्ञान से संबंधित एक नई संधि को अपनाया

24 मई, 2024 को, विश्व बौद्धिक संपदा संगठन (डब्ल्यूआईपीओ) के सदस्य देशों ने बौद्धिक संपदा (आईपी), आनुवंशिक संसाधनों और संबंधित पारंपरिक ज्ञान से संबंधित एक अभूतपूर्व नई संधि को अपनाया।

  1. ऐतिहासिक सफलता: यह संधि दशकों की बातचीत के बाद एक ऐतिहासिक सफलता का प्रतीक है। यह बौद्धिक संपदा, आनुवंशिक संसाधनों और पारंपरिक ज्ञान के बीच इंटरफेस को संबोधित करने वाली पहली डब्ल्यूआईपीओ संधि है।
  2. स्वदेशी लोगों और स्थानीय समुदायों का समावेश: इस संधि में विशेष रूप से स्वदेशी लोगों के साथ-साथ स्थानीय समुदायों के लिए प्रावधान शामिल हैं। यह आनुवंशिक संसाधनों और पारंपरिक ज्ञान के संरक्षण और प्रबंधन में उनकी भूमिका को मान्यता देता है।
  3. पेटेंट आवेदकों के लिए प्रकटीकरण की आवश्यकता: एक बार जब संधि 15 अनुबंध पक्षों के साथ लागू हो जाती है, तो यह उन पेटेंट आवेदकों के लिए एक नई प्रकटीकरण आवश्यकता स्थापित करेगी जिनके आविष्कार आनुवंशिक संसाधनों और/या संबंधित पारंपरिक ज्ञान पर आधारित हैं। इस आवश्यकता का उद्देश्य पारदर्शिता और उचित लाभ-बंटवारा सुनिश्चित करना है।
  4. 25 साल की बातचीत यात्रा: 1999 में कोलंबिया के एक प्रस्ताव के बाद, इस संधि के लिए 2001 में डब्ल्यूआईपीओ में बातचीत शुरू हुई। इन चर्चाओं के दौरान स्वदेशी लोगों और स्थानीय समुदायों का समावेश उल्लेखनीय था।
  5. डब्ल्यूआईपीओ के महानिदेशक डैरेन टैंग ने संधि को अपनाने का स्वागत किया।

प्रश्न: नई डब्ल्यूआईपीओ संधि पहली बार किस प्रमुख पहलू को संबोधित करती है?

A. अंतर्राष्ट्रीय व्यापार शुल्क
B. बौद्धिक संपदा, आनुवंशिक संसाधनों और पारंपरिक ज्ञान के बीच इंटरफ़ेस
C. वैश्विक इंटरनेट नियम
D. अंतर्राष्ट्रीय श्रम कानून

उत्तर: B. बौद्धिक संपदा, आनुवंशिक संसाधनों और पारंपरिक ज्ञान के बीच इंटरफ़ेस

Scroll to Top