RBI ने रेपो रेट को 25 बेसिस प्वाइंट बढ़ाकर 6.50% कर दिया है।

  • मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) ने 8 फरवरी, 2023 को अपनी बैठक में, वर्तमान और विकसित व्यापक आर्थिक स्थिति के अपने आकलन के आधार पर, चलनिधि समायोजन सुविधा (एलएएफ) के तहत नीति रेपो दर को 25 आधार अंकों से बढ़ाकर 6.50% करने का निर्णय लिया।
  • इसी तरह, स्टैंडिंग डिपॉजिट फैसिलिटी (SDF) रेट को 6.25% और मार्जिनल स्टैंडिंग फैसिलिटी (MSF) रेट और बैंक रेट को 6.75% पर एडजस्ट किया गया।
  • चालू वित्त वर्ष 2022-23 के लिए सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) वृद्धि का अनुमान आरबीआई ने 6.8% से बढ़ाकर 7% कर दिया है।
  • अगले वित्त वर्ष 2023-24 में सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में वृद्धि दर 6.4 फीसदी रहने का अनुमान लगाया गया है।
  • 2022-23 के लिए मुद्रास्फीति 6.5% अनुमानित है, Q4 मुद्रास्फीति 5.7% अनुमानित है, 2023-24 के लिए CPI मुद्रास्फीति 5.3% अनुमानित है।

रेपो रेट क्या है?

रेपो दर वह ब्याज दर है जिस पर वाणिज्यिक बैंक अपनी तत्काल जरूरतों को पूरा करने के लिए केंद्रीय बैंक से पैसा उधार लेते हैं। इसमें बढ़ोतरी का मतलब है कि बैंकों और वित्तीय संस्थानों से कर्ज लेना महंगा होगा और मौजूदा कर्ज की मासिक किस्त (ईएमआई) बढ़ जाएगी।

Scroll to Top