14 अप्रैल विश्व क्वांटम दिवस

14 अप्रैल को मनाए जाने वाले विश्व क्वांटम दिवस का उद्देश्य क्वांटम विज्ञान के तेजी से आगे बढ़ते क्षेत्र और समाज के विभिन्न पहलुओं पर इसके संभावित प्रभाव के बारे में जागरूकता बढ़ाना है।

विश्व क्वांटम दिवस क्वांटम सिद्धांत के अग्रणी जर्मन भौतिक विज्ञानी मैक्स प्लैंक की जयंती के रूप में मनाया जाता है, जिन्होंने प्रकाश और ऊर्जा की क्वांटम प्रकृति को समझने के लिए आधार तैयार किया था।

  • क्वांटम यांत्रिकी वह विज्ञान है जो परमाणुओं और कणों के व्यवहार को उजागर करता है – जो हमारे ब्रह्मांड के मूलभूत निर्माण खंड हैं।
  • सेमीकंडक्टर चिप्स: हमारे स्मार्टफोन और कंप्यूटर को शक्ति देने वाले चिप्स क्वांटम सिद्धांतों का उपयोग करके काम करते हैं।
  • लेजर, एलईडी लाइट्स और मॉनिटर्स: ये नवाचार क्वांटम यांत्रिकी की हमारी समझ से उपजे हैं।
  • जीपीएस सटीकता: क्वांटम यांत्रिकी पर आधारित अल्ट्रा-सटीक परमाणु घड़ियां ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम (जीपीएस) पर आधारित हैं।
  • मेडिकल इमेजिंग: चुंबकीय अनुनाद इमेजिंग (एमआरआई) स्कैनर क्वांटम सिद्धांतों पर निर्भर करते हैं।

क्वांटम कंप्यूटर, क्वांटम सेंसर और क्वांटम संचार उपकरणों सहित भविष्य की प्रौद्योगिकियां परिवर्तनकारी अनुप्रयोगों का वादा करती हैं।

प्रश्न: विश्व क्वांटम दिवस पर किसका स्मरण किया जाता है?

a) अल्बर्ट आइंस्टीन
b) मैक्स प्लैंक
c) नील्स बोहर
d) वर्नर हाइजेनबर्ग

उत्तर: b) मैक्स प्लैंक

प्रश्न: क्वांटम सिद्धांत के विकास में मैक्स प्लैंक की क्या भूमिका है?

a) उन्होंने इलेक्ट्रॉन की खोज की
b) उन्होंने सामान्य सापेक्षता का सिद्धांत तैयार किया
c) उन्होंने कुंतिज़ेद ऊर्जा की अवधारणा पेश की
d) उन्होंने पहले क्वांटम कंप्यूटर का आविष्कार किया

उत्तर: c) उन्होंने कुंतिज़ेद ऊर्जा की अवधारणा पेश की

Scroll to Top