स्काईरूट एयरोस्पेस, एक निजी अंतरिक्ष यान कंपनी, ने 3डी-मुद्रित धवन II इंजन का सफलतापूर्वक परीक्षण किया।

तेलंगाना में, एक निजी अंतरिक्ष वाहन कंपनी स्काईरूट एयरोस्पेस ने 200 सेकंड के लिए अपने 3डी-मुद्रित धवन II इंजन का सफलतापूर्वक परीक्षण किया। इंजन को विशेष रूप से इसके भारी वाहन विक्रम II के लिए डिज़ाइन किया गया था। हाल के परीक्षण में एक क्रायोजेनिक इंजन शामिल था, जो विक्रम-द्वितीय के अद्यतन संस्करण के लिए ऊपरी चरण के रूप में काम करेगा। क्रायोजेनिक ऊपरी चरण में यह उन्नयन, एक ठोस ईंधन चरण के विपरीत, रॉकेट की पेलोड वहन क्षमता को बढ़ाता है।

पिछले वर्ष नवंबर में, स्काईरूट ने एकल-चरण ठोस ईंधन विक्रम एस रॉकेट का उपयोग करके अपनी पहली उप-कक्षीय उड़ान का संचालन किया। श्रृंखला में कंपनी का प्रारंभिक रॉकेट, विक्रम-1, उपग्रहों को कक्षा में ले जाने के लिए तीन ठोस-ईंधन चरणों का उपयोग करेगा। हैदराबाद से कंपनी के एक बयान के मुताबिक, स्काईरूट का लक्ष्य इस साल के अंत तक अपनी पहली कक्षीय उड़ान का संचालन करना है, साथ ही अद्यतन विक्रम II रॉकेट अगले साल लॉन्च-तैयार होने के लिए तैयार है। इस कार्यक्रम को हासिल करने के बाद स्काईरूट दक्षिण एशिया का पहला निजी लॉन्चर बन जाएगा। कुल मिलाकर, स्काईरूट एयरोस्पेस की हालिया उपलब्धियां और भविष्य की योजनाएं निजी अंतरिक्ष उद्योग में महत्वपूर्ण प्रगति हैं।

Qns : किस कंपनी ने तेलंगाना में अपने 3डी-मुद्रित धवन II इंजन का सफलतापूर्वक परीक्षण किया?

A. स्काईरूट एयरोस्पेस
B. भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो)
C. स्पेसएक्स
D. बोइंग

Ans : A. स्काईरूट एयरोस्पेस