सुप्रीम कोर्ट ने राजनीतिक फंडिंग के लिए इलेक्ट्रोल बांड योजना को अमान्य कर दिया है

सुप्रीम कोर्ट ने राजनीतिक फंडिंग के लिए इलेक्ट्रोल बांड योजना को अमान्य कर दिया है। 5-न्यायाधीशों की पीठ वाली अदालत ने 15 फरवरी, 2024 को घोषणा की कि यह योजना नागरिकों के सूचना के अधिकार का उल्लंघन करती है।

  1. भारतीय स्टेट बैंक को निर्देश दिया गया है कि वह इलेक्ट्रोल बांड जारी करना तुरंत बंद कर दे और इस पद्धति के माध्यम से दान का विवरण भारत चुनाव आयोग को प्रदान करे।
  2. अदालत ने पाया कि काले धन से निपटने और दाता की गोपनीयता बनाए रखने की योजना के उद्देश्य अपर्याप्त औचित्य हैं।
  3. सुप्रीम कोर्ट ने इस बात पर जोर दिया कि काले धन के मुद्दे के समाधान के लिए चुनावी बांड कोई विशेष समाधान नहीं है।
  4. इलेक्ट्रोल बांड योजना सरकार द्वारा 2 जनवरी, 2018 को शुरू की गई थी, जिसका उद्देश्य नकद दान को प्रतिस्थापित करना और राजनीतिक फंडिंग में पारदर्शिता बढ़ाना था।
  5. इलेक्ट्रोल बांड प्राप्त करने की पात्रता जन प्रतिनिधित्व अधिनियम, 1951 की धारा 29ए के तहत पंजीकृत राजनीतिक दलों तक सीमित थी, जिन्होंने पिछले लोकसभा या राज्य विधान सभा चुनावों में कम से कम 1% वोट हासिल किए थे।

प्रश्न: राजनीतिक फंडिंग के लिए इलेक्ट्रोल बांड योजना के संबंध में सुप्रीम कोर्ट ने क्या किया?

a. इसकी संवैधानिकता को बरकरार रखा
b. योजना को अमान्य कर दिया
c. योजना में प्रस्तावित संशोधन
d. सरकार से और जानकारी मांगी

उत्तर : b. योजना को अमान्य कर दिया

प्रश्न: सर्वोच्च न्यायालय ने किस आधार पर इलेक्ट्रोल बांड योजना को नागरिकों के अधिकारों का उल्लंघन करने वाला घोषित किया?

a. गोपनीयता का उल्लंघन
b. सूचना के अधिकार का उल्लंघन
c. धन का अनुचित वितरण
d. राजनीतिक फंडिंग में पारदर्शिता का अभाव

उत्तर : b. सूचना के अधिकार का उल्लंघन

Scroll to Top