शक्तिशाली सौर तूफान पृथ्वी से टकराया, जिससे ऑस्ट्रेलिया से लेकर ब्रिटेन तक आकाश में आकाशीय प्रकाश दिखाई देने लगा

10 मई की रात को एक असामान्य रूप से शक्तिशाली सौर तूफान पृथ्वी से टकराया, जिससे ऑस्ट्रेलिया से लेकर ब्रिटेन तक आकाशीय रोशनी दिखाई देने लगी। सौर तूफान पृथ्वी के संचार नेटवर्क, उपग्रहों और बिजली ग्रिडों में संभावित व्यवधान का खतरा पैदा करता है क्योंकि यह सप्ताहांत तक जारी रहेगा।

  1. सौर तूफान कोरोनल मास इजेक्शन (सीएमई), सूर्य से प्लाज्मा और चुंबकीय क्षेत्र के निष्कासन के कारण हुआ था।
  2. इसे अक्टूबर 2003 के ‘हैलोवीन स्टॉर्म’ के बाद पहली बार ‘अत्यधिक’ भू-चुंबकीय तूफान में अपग्रेड किया गया था।
  3. आने वाले दिनों में और अधिक कोरोनल मास इजेक्शन से ग्रह पर प्रभाव पड़ने की उम्मीद है।
  4. सोशल मीडिया उत्तरी यूरोप से लेकर ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड और प्रशांत महासागर में पड़ोसी द्वीपों तक अरोरा की छवियों से भरा हुआ था।
  5. सौर ज्वालाएँ सूर्य कलंकों के एक बड़े समूह से उत्पन्न हुईं, जो पृथ्वी से 17 गुना अधिक चौड़ी हैं।
  6. सूर्य 11-वर्षीय चक्र के चरम के करीब है, जिसके परिणामस्वरूप सौर गतिविधि में वृद्धि हुई है।
  7. भू-चुंबकीय तूफानों के दौरान चुंबकीय क्षेत्र में उतार-चढ़ाव लंबे तारों में करंट पैदा कर सकता है, जिससे संभावित रूप से बिजली गुल हो सकती है और इंजीनियरिंग में समस्याएं आ सकती हैं।
  8. सौर तूफानों के दौरान अंतरिक्ष यान विकिरण के उच्च स्तर के प्रति संवेदनशील होते हैं, लेकिन पृथ्वी का वायुमंडल ग्रह की रक्षा करता है।
  9. कबूतर और आंतरिक जैविक कम्पास वाली अन्य प्रजातियाँ भू-चुंबकीय तूफानों से प्रभावित हो सकती हैं।
  10. कैरिंगटन इवेंट, दर्ज इतिहास का सबसे शक्तिशाली भू-चुंबकीय तूफान, सितंबर 1859 में हुआ था।

प्रश्न: 10 मई, 2024 को पृथ्वी पर आए शक्तिशाली सौर तूफान का कारण क्या था?

a) सौर ज्वालाएँ
b) कोरोनल मास इजेक्शन (सीएमई)
c) चंद्र ग्रहण
d) सूर्य ग्रहण

उत्तर: b) कोरोनल मास इजेक्शन (सीएमई)

प्रश्न: परिच्छेद में उल्लिखित सौर गतिविधि चक्र की अनुमानित आवृत्ति क्या है?

a) 7 वर्ष
b) 11 वर्ष
c) 50 वर्ष
d) 100 वर्ष

उत्तर: b) 11 वर्ष

Scroll to Top