मल्टीपल इंडिपेंडेंटली टारगेटेबल री-एंट्री व्हीकल तकनीक के साथ अग्नि-5 मिसाइल का पहला उड़ान परीक्षण सफलतापूर्वक आयोजित किया गया

11 मार्च, 2024 को, भारत ने “मिशन दिव्यास्त्र” नामक परियोजना के तहत अपनी स्वदेशी रूप से विकसित अग्नि -5 मिसाइल का पहला उड़ान परीक्षण सफलतापूर्वक आयोजित किया। यह उन्नत मिसाइल मल्टीपल इंडिपेंडेंटली टारगेटेबल री-एंट्री व्हीकल (MIRV) तकनीक से लैस है।

यहां मुख्य विवरण हैं:

  • अग्नि-5 मिसाइल: अग्नि-5 एक परमाणु-सक्षम अंतरमहाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइल (आईसीबीएम) है, जिसकी मारक क्षमता 5,000 किलोमीटर से अधिक है। यह एक टन से अधिक वजन का परमाणु हथियार ले जा सकता है।
  • MIRV क्षमता: मिशन दिव्यास्त्र के सफल परीक्षण के साथ, भारत उन चुनिंदा देशों के समूह में शामिल हो गया है जिनके पास MIRV क्षमता वाली हथियार प्रणाली है। एमआईआरवी एक एकल मिसाइल को कई स्वतंत्र रूप से लक्षित हथियार ले जाने की अनुमति देता है, जिससे इसकी प्रभावशीलता बढ़ जाती है।
  • स्वदेशी विकास: अग्नि-5 मिसाइल को रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (डीआरडीओ) द्वारा स्वदेशी रूप से विकसित किया गया था। यह तीन चरण वाले ठोस-ईंधन इंजन का उपयोग करता है और स्वदेशी एवियोनिक्स सिस्टम और उच्च सटीकता सेंसर पैकेज से लैस है।
  • मारक क्षमता: अग्नि-5 की प्रभावशाली रेंज इसे लगभग पूरे एशिया को अपनी मारक क्षमता के दायरे में लाने में सक्षम बनाती है, जिसमें चीन का सबसे उत्तरी भाग और साथ ही यूरोप के कुछ क्षेत्र भी शामिल हैं।
  • ऐतिहासिक संदर्भ: अग्नि मिसाइलों का विकास 1980 के दशक की शुरुआत में प्रसिद्ध वैज्ञानिक और भारत के पूर्व राष्ट्रपति डॉ. ए.पी.जे. अब्दुल कलाम के नेतृत्व में एकीकृत निर्देशित मिसाइल विकास कार्यक्रम के तहत शुरू हुआ।

एमसीक्यू

Question: अग्नि-5 मिसाइल के पास कौन सी तकनीक है?
a) हाइपरसोनिक प्रोपल्शन
b) स्टील्थ क्षमताएं
c) मल्टीपल इंडिपेंडेंटली टारगेटेबल री-एंट्री व्हीकल (एमआईआरवी) तकनीक
d) लेजर मार्गदर्शन प्रणाली
उत्तर: c) मल्टीपल इंडिपेंडेंटली टारगेटेबल री-एंट्री व्हीकल (एमआईआरवी) तकनीक

Question: अग्नि-5 मिसाइल का विकास किसने किया?
A) NASA
B) यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी (ESA)
C) रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (DRDO)
D) SpaceX
उत्तर: C) रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (DRDO)

Question: अग्नि-5 मिसाइल की रेंज कितनी है?
A) 1,000 किमी
B) 3,500 किमी
C) 5,000 किमी
D) 10,000 किमी
उत्तर: C) 5,000 किमी

Scroll to Top