ईरान-पाकिस्तान सीमा संघर्ष: बढ़ता तनाव

ईरान और पाकिस्तान के बीच हालिया हमलों ने मध्य पूर्व में अस्थिरता को लेकर चिंता बढ़ा दी है।

  1. सीमा क्षेत्र: दोनों देश 900 किलोमीटर की अस्थिर सीमा साझा करते हैं, जिसके एक तरफ पाकिस्तान का बलूचिस्तान प्रांत और दूसरी तरफ ईरान का सिस्तान और बलूचिस्तान प्रांत है। दोनों देशों का बलूच क्षेत्र में आतंकवादियों से लड़ने का इतिहास रहा है।
  2. असामान्य हमले: एक सामान्य अलगाववादी दुश्मन का सामना करते समय, दोनों पक्षों के लिए एक-दूसरे की धरती पर आतंकवादियों पर हमला करना असामान्य है।
  3. ईरान के हमले: ईरान ने पाकिस्तान के बलूचिस्तान प्रांत पर हमले करके संघर्ष की शुरुआत की, जिसमें दो बच्चों सहित कई लोग हताहत हुए। ईरान ने ईरानी आतंकवादियों को निशाना बनाने का दावा किया, लेकिन पाकिस्तान ने इसे अंतरराष्ट्रीय कानून और द्विपक्षीय संबंधों का उल्लंघन माना।
  4. पाकिस्तान की जवाबी कार्रवाई: पाकिस्तान ने ईरान के सिस्तान और बलूचिस्तान में कथित अलगाववादी ठिकानों पर अत्यधिक समन्वित और लक्षित सैन्य हमलों के साथ जवाबी कार्रवाई की। इन हमलों में महिलाएं और बच्चे समेत कई लोग हताहत हुए।
  5. तनाव और चिंताएँ: दोनों देशों के बीच व्याप्त तनाव गंभीर चिंता का विषय है। दोनों देशों ने आतंकवाद का सामना किया है, और संप्रभुता और स्वतंत्रता के सम्मान की वैश्विक आवश्यकता है।

प्रश्न: ईरान और पाकिस्तान के बीच हालिया तनाव का मुख्य कारण क्या है?

  • क) धार्मिक मतभेद
  • बी) सीमा विवाद
  • ग) आर्थिक प्रतिस्पर्धा
  • घ) सांस्कृतिक संघर्ष

उत्तर: बी) सीमा विवाद

Scroll to Top