इसरो ने श्रीहरिकोटा से PSLV-C58 के जरिए XPOSAT लॉन्च किया

  • इसरो ने 1 जनवरी, 2024 को श्रीहरिकोटा से ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान PSLV-C58 पर एक्स-रे पोलारिमीटर सैटेलाइट (XPoSat) लॉन्च किया।
  • यह आकाशीय स्रोतों से ब्रह्मांडीय एक्स-रे के ध्रुवीकरण का अध्ययन करने के लिए भारत के पहले समर्पित वैज्ञानिक प्रयास का प्रतीक है।
  • PSLV-C58 ने XPoSat के साथ दस अन्य वैज्ञानिक पेलोड भी लॉन्च किए।
  • प्रक्षेपण में PSLV-DL शामिल था, जिसने XPoSat और अन्य पेलोड को लगभग 650 किमी की ऊंचाई पर कक्षा में स्थापित किया।
  • उद्देश्यों में एक विशिष्ट ऊर्जा बैंड में एक्स-रे के ध्रुवीकरण को मापना, ब्रह्मांडीय एक्स-रे स्रोतों का दीर्घकालिक वर्णक्रमीय और अस्थायी अध्ययन करना और विशिष्ट पेलोड में ब्रह्मांडीय स्रोतों से एक्स-रे उत्सर्जन को मापना शामिल है।
  • 650 किमी पर XPoSat की परिक्रमा करने के बाद, रॉकेट के चौथे चरण को दो पुनरारंभ के माध्यम से 350 किमी तक कम किया जाएगा, जिससे 9.6-डिग्री कक्षा बनेगी।
  • PS4 में बचे हुए प्रणोदक को मुख्य इंजनों के माध्यम से निपटाया जाएगा, जो भविष्य में नियोजित वातावरण पुनः प्रवेश प्रयोगों में PS4 चरण की सुरक्षा में योगदान देगा।

प्रश्न: इसरो द्वारा लॉन्च किए गए एक्स-रे पोलारिमीटर सैटेलाइट (XPoSat) का प्राथमिक उद्देश्य क्या है?

a) वायुमंडलीय स्थितियों का अध्ययन
b) ब्रह्मांडीय एक्स-रे के ध्रुवीकरण का विश्लेषण
c) अंतरिक्ष मलबे की निगरानी करना
d) चंद्र सतह की विशेषताओं की जांच करना

उत्तर : b) ब्रह्मांडीय एक्स-रे के ध्रुवीकरण का विश्लेषण

Scroll to Top