इसरो ने एयरोनॉटिकल टेस्ट रेंज में पुन: प्रयोज्य लॉन्च वाहन (आरएलवी) ‘पुष्पक’ का लैंडिंग प्रयोग सफलतापूर्वक किया

22 मार्च, 2024 को, इसरो ने कर्नाटक में चित्रदुर्ग के पास चैलकेरे में एयरोनॉटिकल टेस्ट रेंज में आरएलवी ‘पुष्पक’ की सफल लैंडिंग किया।

  • मिशन का उद्देश्य पुन: प्रयोज्य वाहन की स्वायत्त लैंडिंग क्षमताओं का प्रदर्शन करना था।
  • 100 करोड़ रुपये से अधिक की लागत वाले, आरएलवी को मध्य हवा में छोड़े जाने से पहले भारतीय वायु सेना के चिनूक हेलीकॉप्टर द्वारा 4.5 किमी की ऊंचाई तक ले जाया गया था।
  • उन्नत नेविगेशन सिस्टम और रडार अल्टीमीटर का उपयोग करते हुए, आरएलवी स्वायत्त रूप से अंतरिक्ष पुन: प्रवेश स्थितियों का अनुकरण करते हुए एटीआर हवाई पट्टी पर पहुंचा और उतरा।
  • यह ऐतिहासिक उपलब्धि पहली बार है जब किसी वाहन को हेलीकॉप्टर द्वारा ऊंचाई पर ले जाया गया और स्वायत्त रूप से रनवे पर उतारा गया, जो अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी में महत्वपूर्ण प्रगति को दर्शाता है।

प्रश्न: इसरो द्वारा सफलतापूर्वक परीक्षण किए गए पहले पुन: प्रयोज्य लॉन्च वाहन (आरएलवी) का नाम क्या है?

a) आरएलवी विमान
b) आरएलवी-टीडी
c) आरएलवी-एमके3
d) आरएलवी ‘पुष्पक’

उत्तर: d) आरएलवी ‘पुष्पक’

प्रश्न: एयरोनॉटिकल टेस्ट रेंज (एटीआर) कहाँ स्थित है, जहाँ आरएलवी परीक्षण आयोजित किया गया था?

a) तिरुवनंतपुरम, केरल
b) बेंगलुरु, कर्नाटक
c) हैदराबाद, तेलंगाना
d) चल्लकेरे, कर्नाटक

उत्तर: d) चल्लकेरे, कर्नाटक

Scroll to Top